भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शुभकामनाओं का शोर / कविता भट्ट

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

{KKGlobal}}


आज फिर से बधाई-शुभकामनाओं का शोर चला है
घोषणा, भाषण,भीड़ और पुष्पगुच्छ का दौर चला है ।

जन्म दिवस पर खड़ा प्रश्न हैं
विकल सत्ता के घर जश्न हैं
केवल झुनझुनों में घिरा है
कब सँभला ,जो आज गिरा है
तार-तार उत्तर का आँचल, कहाँ इसका छोर चला है
चोट और झटकों पर झटके, हर आँसू झकझोर चला है ।
पहाड़ियों के दुखी नगर को
चढ़ती उतरती इस डगर को
अब कुछ समझ आता नहीं है
कोई सपन भाता नहीं है
 पोथी-रोटी-दवा न मिली, ये जाने किस ओर चला है
 नशे के अँधियारे में, छोड़ ये उजली भोर चला है ।