भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्याम प्यारा, मुरलीअ वारा पल पल ॻायां तुंहिंजो नाम। / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

श्याम प्यारा, मुरलीअ वारा पल पल ॻायां तुंहिंजो नाम।
नींहं में नियारा साजनि प्यारा हर हर ॻायां तुंहिंजो नाम।।

1.
अजबु त जलवो आहे तुंहिंजो
अजबु आहे तुंहिंजो इसरार
ग़म गोंदर में प्यारा तुंहिंजो
नाम जपियां तुंहिंजो सुबह शाम
नींह में नियारा, साजन प्यारा

2.
तूं आहीं मुंहिंजे जीउ जो जियापो
मुंहिंजो लॻल आ तोसां लाॻाो
दर्शन ॾेई वञु हिकवारी
तुंहिंजो नाउ आ सुंदर श्याम
नींह में नियारा, साजन प्यारा

3.
बिरह जी मन में बाहि ॿरे थी
कु़र्ब जी दिलि में आग ॿरे थी
मीरां जहिड़ी मोज मचाए
अचां ‘निमाणी’ तुंहिंजी सच्चे धाम
नींह में नियारा, साजन प्यारा