भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

श्याम लखत छबि बाकी राधिका जी की / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

श्याम लखत छबि, बांकी राधिका जी की
चटक चुनरी घेर घांघरा,
अंगिया की छबि बांकी, राधिका जी की। श्याम...
कर कपोल नैना रतनारे,
चितवन की छबि बांकी, राधिकाजी की। श्याम...
कानन कुण्डल माथे बेंदी,
बैसर की छबि बांकी, राधिकाजी की। श्याम...
चूड़ी लाल जड़ाउ कंगना,
बाजू की छबि बांकी, राधिकाजी की। श्याम...
पांव पैजनियां कमर करधनियां,
बिछुआ की छबि बांकी, राधिकाजी की।