भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संजीवणी मंतर / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सबदां री स्याई नैं
सांचोड़ी मिठास रो
रंग देय ’र
थूं मांड
म्हारै हिवडै़ माथै
रसभीणी, रंगसीळी
नवीं बातां।
अरथ नीसरै,
जे भावनावां बण ’र
तो बिना कागद
उतर सकै
हिवड़ै माथै गै ’रागै ’रा
बेद सासतर
उपनिसद अर पुराण
सगळी विद्यावां विधावां।
सबद सूं
नीं होवै सगती अळगी
पण बोलणियै रै, पांचूं तत रौ
सांचो संजोग हुवै,
जणा ई
लिखीजै काळ पानडंा माथै
कोई सबद संजीवणी मंतर।