भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

संसार सराय / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

है संसार सराय यह देखहु नजर उठाय।
रात भरे का पाहुना भोर होत उठ जाय।।
भोर होत उठ जाय डरहु तुम शक्तिमान से।
करहुँ दीनहित प्रेमनित बचहु क्रोध अभिमान से।।
सुख दुख जानहु एक सम यहि जीवन का सार है।
कहैं रहमान भजन बिनु हरि कै सच संसार सराय है।।