भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सच्चा मित्र / प्रभुदयाल श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

    झगड़ू बंदर ने रगड़ू,
    भालू से हाथ मिलाया|
    बोला तुमसे मिलकर तो,
    प्रिय बहुत मज़ा है आया|

     रगड़ू बोला हाथ मिले,
     तो मन भी तो मिल जाते|
     अच्छे मित्र वही होते,
     जो काम समय पर आते|

      कठिन समय पर काम नहीं,
      जो कभी मित्र के आता|
      मित्र कहां ? अवसर वादी,
      वह तो गद्दार कहाता|