भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सड़कें खाली करो / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सड़कें खाली करो कि बच्चे आते हैं।
ऐंबुलेंस, फायर ब्रिगेड को
जैसी जल्दी होती है,
कुछ-कुछ वैसी ही हम
बच्चों की सरदर्दी होती है,
पर शहरों के लोग समझ कब पाते हैं।

वी.आई.पी. गुजरें तो
कुछ और नजारा होता है,
उन्हें पता क्या बच्चों का
किस तरह गुजारा होता है
पेपर देने तक से वे रह जाते हैं।

कॉलोनी के अंदर अब
घुसपैठ हो चुकी कारों की,
नहीं किसी को चिंता है पर
बच्चों के अधिकारों की,
वैसे बाल-दिवस पर कसमें खाते हैं।
सड़कें खाली करो कि बच्चे आते हैं।