भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सतगुरु ऐलै द्वार, जागलै सुभाग हे / छोटेलाल दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सतगुरु ऐलै द्वार, जागलै सुभाग हे।
सब सखी गुरु-पद, करो अनुराग हे॥टेक॥
सहज-सरल बनो, कपट के त्याग हे।
सबटा गुमान तजो, करो भक्ति माँग हे॥1॥
गुरु-ओर लागो तोड़ि, ममता के धाग हे।
गुरु-सेव करि नित, मेटो मन-दाग हे॥2॥
दोष-पाप छोड़ो सब, शुचि कर्म राग हे।
गुरु-जाप-ध्यान करो, मारो मन-नाग हे॥3॥
बिन्दु-ध्यान दृढ़ करो, निसिदिन जाग हे।
‘लाल दास’ भव तरो, शब्द-ध्यान पाग हे॥4॥