भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सत्यवादी / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

तन मन बदलै जीव का बदलै सम्‍वत वार।
बदलै नृप कानून जग बदलै सागर धार।।
बदलै सागर धार बदल जाय मानुष कहिकर।
बदलै जाय संसार बदल जाय सरिता बहिकर।।
कहैं रहमान रेख नहिं बदलै प्रकृति न बदलै सज्‍जन।
सत्वादी बदलैं नहीं अर्पण कर दें धन तन।।