भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सत्य / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सत्‍य अटल है जगत महं सत्‍य धर्म का खंभ।
सत्‍य की दसी लक्ष्‍मी सत्‍य बंधे सुरब्रह्म।।
सत्‍य बंधे सुर ब्रह्म सत्‍य से ईश्‍वर राजी।
सत्‍य सरवरी तप नहीं सत नहिं हारै बाजी।।
कहैं रहमान स्‍वर्ग है सत से देवै नर्क असत्‍य।
भव सागर तरना चहहु उर धारहु नित सत्‍य।।