भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सदस्य वार्ता:सम्यक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

-

आपके आलेख के लिये

aroma sharda 03:53, 14 फरवरी 2010 (UTC)Samyak ji, I want to place my Punjabi folk yodan in the Punjabi section by my self. Kindly explain step by step to do so. Thanks. Regards, Sadasya Sharda Monga.


आपने सदस्य वार्ता और चौपाल प्रयोग नाम से जो लेख लिखा है, वह मेरे लिये अत्यन्त उपयोगी है । बहुत सी परेशनियाँ स्वतं ही हल हो गयी हैं । कोशिश करूँगा कि सब कुछ खयाल में रहे । आपका आभार । --Himanshu ००:१९, २७ सितम्बर २००९ (UTC)


आदरणीय सम्यक जी , नमस्कार । मेरा सदस्य पन्ना मेरा वास्तविक योगदान नहीं दर्शा रहा है ।कृपया देखें। --सदस्य:द्विजेन्द्र द्विज 5 नवम्बर,2009


बधाई।

कविता कोष के 25000 पृष्ठ पूरे होने पर हार्दिक बधाई। यह महान यज्ञ है और अभी एसी कई आहूतिया इसमें और पड़ेंगी तथापि यह एक मील का पत्थर तो है। मुझे इस अभियान से जुड कर बहुत प्रसन्नता हुई है।--राजीव रंजन प्रसाद

सम्यक जी! साँचा:KKGlobalMessage में २४००० के स्थान पर २५००० कर दीजिए। सादर --धर्मेन्द्र कुमार सिंह

सम्यक जी! मेरी पूरी कोशिश रहती है कि मैं रंगीन चित्र ही अपलोड़ करूँ। जहाँ ऐसे चित्र नहीं मिल पाते वहाँ मजबूरी में श्वेत-श्याम चित्र अपलोड़ करने पड़ते हैं। अगर मुझे कभी भी इन संग्रहों के नये चित्र मिल गये तो मैं उन्हें बदल दूँगा। एक बात आप से पूछनी थी कि पुराने चित्रों को नये चित्रों से बदलते कैसे हैं। अपने लागिन से मैं पुराने चित्रों को हटा नहीं पा रहा हूँ। सादर--धर्मेन्द्र कुमार सिंह

चित्र जोड़ने के संबंध में

आदरणीय, मैंने ’आलोक श्रीवास्तव-२’ की कविता-पुस्तक ’वेरा ! उन सपनों की कथा कहो’ जोड़ना प्रारम्भ किया था, जो लगभग पूर्ण ही हो चुका है (केवल दो कवितायें शेष हैं)। पुस्तक के कवर का चित्र जोड़ना चाहता था । यह कैसे करूँ । पहले तो चित्र अपलोड करने का स्थान था, पर अब शायद यह प्रतिबंधित है । क्या ई-मेल करूँ चित्र को ? मार्गदर्शन करें । साभार ।

--Himanshu ०९:२१, १४ दिसम्बर २००९ (UTC)

यह महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिए धन्यवाद सम्यक जी! आगे से इसका ध्यान रखूँगा और अगर KKGlobal में कुछ बदलाव करना हुआ तो आपसे सलाह लेकर करूँगा। सादर--धर्मेन्द्र कुमार सिंह

mai eske sambandh me kuchh nahi janta hu kirpya mujhe detail me bataye. my name -Dharmendra kumar yadav M.A-Hindi & cttc,pgdca,tfap,

permission of Post Poems

I want to talk with you or pl explain me how can I ADD my poems on Kavitakhosh. chandra prakash kanojiya 9460007983 Ajmer, Rajasthan, India