भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सन् 77 के बच्चे / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाय-बछड़े की जोड़ी
सन् सतहत्तर में
हल जोतते किसान के
थी सामने ।

गाँव के किनारे
नहर से लगी कच्ची सड़क पर
धूल उड़ाती गाड़ी में
आए गाय-बछड़े वाले ।

शाम ढले धुँधलके में
चौपाल में बैठे
हल जोतने वाले किसान के
हमदर्द ।

गाँव अगली सुबह तक
बँट गया था
गाय-बछड़े और हल-किसान में ।

मर्द, औरत, अल्हड़, बूढ़े
बँट गए सब

नहीं बँटे तो सिर्फ़ बच्चे
गाँव में घूमते
पाली बाँधकर लगाते नारे
सुबह गाय-बछड़ा
शाम हल-किसान ।