भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सपने झूठे - वही दिलासे / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बात वही है
सपने झूठे -वही दिलासे

खेल जुगनुओं के
सोने की मीनारों पर
चित्र बने महलों के
टूटी दीवारों पर

राजा के घर में
जलसे हैं - वही तमाशे

पत्थर के चेहरों पर
चिपकी हैं मुसकानें
हैं बहेलिये डाल रहे
चिड़ियों को दाने

नदी किनारे
मछली के बेटे हैं प्यासे

गुंबज के नीचे हैं
इन्द्रधनुष के डेरे
धूप-परी के आँगन में हैं
घने अँधेरे

रोज़ नये ऐलान भोर के
घिरे कुहासे