भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबका अपना-अपना मन है! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब का अपना अपना मन है!

अलि बँध जाता पंकज-रस में,
व्यवहार-कुशलता क्या इसमें?
पर उसकी तो यह मुक्ति मधुर, जिसको जग कहता बन्धन है!
सब का अपना अपना मन है!

निःसीम भरे सागर कितने,
दिन-रात बरसते मेघ घने!
पर, प्राण पपीहा दे देता, पाता न अगर निज जलकण है!
सब का अपना अपना मन है!

अंगार चकोर निगलता है,
बेमौत ज्वाल समझता है, वह प्रेमी का पंकज-वन है!
सब का अपना अपना मन है!

जग में मुझको जो कुछ भाता
उससे मेरा शाश्वत नाता!
तुम जेठ कहो, आषाढ़ कहो-मेरे मन का वह सावन है!
सब का अपना अपना मन है!