भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सबसे अच्छी नानी / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दूध न पीता गुड्डा,
हुआ तभी तो बुड्ढा ।

खाती दाल न रोटी,
फिर भी गुड़िया मोटी ।
 
दिन भर नटखट भैया,
करता धम्मक-धय्या ।

कपड़ा इतना मँहगा,
बहना माँगे लँहगा ।
 
चिढ़ जाते जब चाचा,
मारें मुझे तमाचा ।

पापा करते गड़बड़,
मम्मी करतीं बडबड ।

खों-खों खाँसे दादी,
तम्बाकू की आदी ।

सबसे अच्छी नानी,
कहती रोज कहानी ।