भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब्जी वाला / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेकर सब्जी ताजी-ताजी
लो, आया है सब्जी वाला!

ठेले पर सबसे आगे हैं
ये शिमला के आलू,
आलू के संग मटक रहे हें
अरबी और कचालू।

गोभी, बैंगन, मिर्च, टमारट
ने है घेरा डाला!

एक ओर लुक-छिपकर बैठी
भिंडी नरम-नरम सी,
सिमटी है यों मटर कि जैसे
आई बड़ी शरम-सी।

अलग सभी से रोब दिखाता
जमकर बैठा कटहल,
अदरक, नींबू, लहसुन की भी
बड़े मजे की हलचल।