भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सब छै पहिलके ना, घरोॅ में अमानती ना / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सब छै पहिलके ना, घरोॅ में अमानती ना
एक बेटी बिना सूनेॅ, घरवा ओसार द्वार।
हास आ विलास कुच्छू कनियो नै लागै कही
बेटी त्यागी जेना होलोॅ जिनगी के तार-तार।
हमरा थानोॅ के देवी हुनकोॅ दुआर गेलै
जगमग जोत जलै, बिहसै धरम-सार।
हमरोॅ चमन छोड़ी हुनकोॅ बागोॅ में पाखी
माली छाती सॉग मारी, देलकै असिर धार॥