भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सभवा बइठल रउरा कवन बाबा / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

सभवा बइठल रउरा[1] कवन बाबा, दहु[2] बाबा हमरो जनेउ[3] गे माई।
बेदिया बइठल हो बरुआ, रतन के जोत[4] के माई॥1॥
केई[5] देबे[6] मूँज जनेउआ[7] केई मिरिग छाल गे माई।
केई देवे पियर[8] जनेउआ, बेदिया के बीच गे माई।
रतन के जोत गे माई॥2॥
बराम्हन देलन मूँज जनेउआ, नउआ[9] मिरिग छाल गे माई।
बाबा देलन पियर जनेउआ, बेदिया के बीचे गे माई।
रतन के जोत गे माई॥3॥
सभवा बइठल रउरा कवन चच्चा, दहु चच्चा हमरो जनेउ गे माई।
बेदिया बइठल हो बरुआ, रतन के जोत गे माई॥4॥
केई देवे मूँज जनेउआ, केई मिरिग छाल गे माई।
केई देवे पियर जनेउआ, बेदिया के बीचे गे माई
रतन के जोत गे माई॥5॥
बराम्हन देलन मूँज जनेउआ, नउआ मिरिग छाल गे माई।
चच्चा देलन पियर जनेउआ, बेदिया के बीचे गे माई।
रतन के जोत गे माई॥6॥

शब्दार्थ
  1. आप
  2. दो
  3. यज्ञोपवीत
  4. ज्योति
  5. कौन
  6. देता है
  7. मूँज का जनेऊ। यहाँ मूँज का जनेऊ देने का वर्णन है। प्रचलन के अनुसार उपनयन संस्कार में मूँज की मेखला को जनेऊ की तरह पहनाया जाता है
  8. पीले रंग का
  9. नापित, हजाम