भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समझदारी / कुमार अजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

म्हैं करयो प्रेम
वां अबोध दिनां
जद कै
नीं ठाह हौ
प्रेम पेटै घणौ-कीं म्हनै

वां-ई अणसमझ छिणां मांय
म्हैं सिरजी
घणी-सारी प्रेम कवितावां
कविता री समझ-ई
अबार ई नीं है घणी
पण वीं बगत तौ नीं ही जाबक ई

अर अबै जदकै
नीसरयो हूं चिन्होक
प्रेम रै मारग सूं
अर कीं थोड़ी-घणी
समझी है कविता ई
नीं तौ हुवै प्रेम
अर नीं ई
सिरजीज्यै है
कविता कोई।