भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समझो तो / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

निश्चछल मन है
समझो तो
स्वच्छ चांदनी सा फैला है
खोलो बाहें
बांधो तो

होंगे अलग मन
तन भी दो होंगे
अन्तर्मन की
बहती धारा को पकड़ो तो
निश्चछल मन है
समझो तो

धारा है
बह चली अगर
मुख मोड़ , बदल
तुमसे अलग
तो
उन्मन तरंग को
रोको तो
गहरा नाता है
जानो तो
निश्चछल मन है
समझो तो

तुम तो
उज्ज्वल हिम थे
धार तो थी
तुम्हारी
उच्छल न होने दो
ध्यान दो, आधार दो
प्यार दो, दुलार दो
निश्चछल मन है
समझो तो ।