भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समझ / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

धरम पूळै
अर
बिरमपुरी रै
बीच मांय
बितैड़ी म्हारी
जिंदगाणी
म्हनैं अब
अकारथ लागै।

प्याऊ रो पुन्न
अर
दो रूपिया
घर दीठ
धरमादै री कथा
म्हनैं अबै,
आयी है समझ
घणी मोड़ी।

हैली-दर-हैली
उण रै
बधतै ब्यौपार री
पौं बारा माथै
गांव इचरज करै
अर
भोळा-स्याणा
कैंवता रैवै
धरम री जड़
हरी हुवै।