भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

समय / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


अवनी ने
न समझा अम्बर को
अम्बर न जान सका
अवनी को

अम्बर ने तब समझा
जब फूटा लावा
बहा, पिघला
सुप्त, कुंठित दर्द

अवनी ने तब समझा
जब पीड़ा के
काले मेघों ने
धरती को किया
आँसुओं से
आप्लावित

धरा-गगन जो
दूर हुए
समझे तब
जब
दोनों के दुख
एक हुए

नासमझी का
हुआ सुखान्त
मिलकर एक हुआ
सीमान्त !