भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सम / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सम तक पहुँचना
कितना ज़रूरी होता है

घटाते-बढ़ाते हुए मात्रा
गुज़रते हुए कई तिहाइयों से
करते हुए समझौते
मानते हुए पाबन्दियाँ
हम बस चाहते हैं एक सम

सम से चलकर
लौट आना होता है
हमें सम पर ही
बिताने होते हैं कई अन्तराल
झेलना होता है एकाकीपन
छोड़नी होती है जगह
देना होता है ‘दम’
छोटे-बड़े हर टुकड़े को
कहीं लाना होता है
हर ताल की पकड़नी होती है सम

सम नहीं होती
तो कुछ और होता
बँधना तो फिर भी पड़ता ही हमें
यह सम है
जहाँ पूरा होता है आवर्तन ।