भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सरणाटो / चैनसिंह शेखावत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुरस्यां माथै
बिराज्या सबद
सरणाटा हुवै

ताबूत दीसैला
इण भासावां रा

राजधानियां रै शवदाह घरां में
सबद संस्कारीजै नीं
संस्कार हुवै इणां रा आखरी

कादै भरी गळ्यां रै गळै सूं
जद निसरै
अस्फुट स्वर
धुंधळा माटी रा रंग
आभै रै बारणै
बंध जावै
सबदां री बंदणवार

सजावट सजा हुवै
सबदां खातर
अेक भासा
घिसबा सूं जवान हुवै।