भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सर्ग दिदा / धनेश कोठारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्ग दिदा पाणि पाणि
हमरि विपदा तिन क्य जाणि।


रात रड़िन्‌ डांडा-कांठा
दिन बौगिन्‌ हमरि गाणि।


उंदार दनकि आज-भोळ
उकाळ खुणि खैंचा-ताणि।


बांजा पुंगड़ौं खौड़ कत्यार
सेरौं मा टर्कदीन्‌ स्याणि।


झोंतू जुपलु त्वे ठड्योणा
तेरा ध्यान मा त्‌ राजा राणि।