भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सर्प और मनुष्य / रामेश्वर दयाल श्रीमाली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सर्प
देखते ही मनुष्य को
        नहीं डसता
लेकिन मनुष्य
सर्प को देखते ही मारता है
मनुष्य के सब काम
      समझ से परे के हैं !

सच है
सर्प तो
जहर से भरा है
लेकिन, सच पूछो तो-
मनुष्य में जहर कौनसा थोड़ा है ?

बे-कसूरों को मार-मार
     अपने प्राणों की पूरी सुरक्षा
अपनी देही के पूरे जतन
मनुष्य तुम्हारी
यह सभ्यता
यह संस्कृति
     धन्य-धन्य !

अनुवाद : नीरज दइया