भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सलामत रहे दिल में घर करने वाले / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सलामत रहे दिल में घर करनेवाले।

इस उजडे़ मकाँ में बसर करनेवाले॥


गले पै छुरी क्यों नहीं फेर देते।

असीरों को बेबालो-पर करनेवाले॥


खड़े हैं दुराहे पै दैरो-हरम के।

तेरी जुस्तजू में सफ़र करनेवाले॥


कुजा सहने-आलम, कुजा कुंजे-मरक़द।

बसर कर रहे हैं बसर करनेवाले॥