भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सलोनी पूर्णिमा के झूलन देखल जैबै / सुरेन्द्र प्रसाद यादव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सलोनी पूर्णिमा के झूलन देखल जैबै
बाँका बजरिया हे ननदो
साथ में जैतै सखी सहेली
रंग-बिरंगीॅ रोॅ पोशाकोॅ में
घुमी-घुमी केॅ ठाकुरबाड़ी
ठाकुर-दर्शन करवै हे ननदो
इंजोरिया ठहाका राती में
झमाझम घुमवै हे ननदो
घुमतेॅ-घुमतेॅ लागथै जखनी भूख
मूरी-कचरी के दूकान जैबै हे ननदो
रेचकी गिनी-गिनी केॅ देवै
होटलबाजी अबकी करवै
सिनेमौं देखवे अबकी हे ननदी
रूपा फूरैतै हवागाड़ी सें नै घुमवै
पगडंडी दैकेॅ घोॅर लौटवै हे ननदो
घरोॅ में पाई-पाई के हिसाब
सासू माँगवैं कहतै हे ननदो
अबकी तोहीं दियौ जवाब
यही सें लानलेॅ छियौं हे ननदो