भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सवाद-ए-शाम से ता-सुब्ह-ए-बे-किनार गई / शाहिदा हसन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सवाद-ए-शाम से ता-सुब्ह-ए-बे-किनार गई
तिरे लिए तो मैं हर बार हार हार गई

कहाँ के ख़्वाब कि आँखों से तेरे लम्स के बाद
हज़ार रात गई और बे-शुमार गई

मैं मिस्ल-ए-मौसम-ए-ग़म तेरे जिस्म ओ जाँ में रही
कि ख़ुद बिखर गई लेकिन तुझे निखार गई

कमाल-ए-कम-निगाही है ये ए‘तिबार तिरा
वही निगाह बहुत थी जो दिल के पार गई

अजब सा सिलसिला-ए-ना-रसाई साथ रहा
मैं साथ रह के भी अक्सर उसे पुकार गई

ख़बर नहीं कि ये पूछूँ तो किसे पूछूँ मैं
वहाँ तलक मैं गई हूँ के रहगुज़ार गई