भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सवें सोचूं हज़ारें रंज ऐं ग़म बेवसी हिक आ / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सवें सोचूं हज़ारें रंज ऐं ग़म बेवसी हिक आ।
अलाए मौत आहिनि केतिरा, पर ज़िंदगी हिक आ॥

अलाए केतिरा दर मनु रुलाए बेखु़दीअ में थो।
सवें सपुननि जा घर थिया, निन्ड जी लेकिन घिटी हिक आ॥

घणनि ई आ निगाहुनि जे निहारुनि जिस्म खे रहंडियो।
मगर जंहिं रूह खे चोरियो, उहा दिल में खुपी हिक आ॥

हज़ारें रंग ऐं हर रंग में जीवति जो रंगु आहे।
हज़ारें ज़िंदगियूं हिक ज़िंदगीअ में, तो ॻणी हिक आ॥

फिरियलु ढंगु आ नुमाइश जो, मगरअसल आहे शइ साॻी।
चमक विॼु जी ॾिए जी लाट, सिज जी रोशनी हिक आ॥

लॻो आ वाउ, उॾी आ धूड़ि, लटिजी आहे वियो सभु कुछु।
लॻे थो हाणि इअं हरचीज़ जी पहछाण ई हिक आ॥