भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साईं महरवान / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह जा साईं महिर कर सदाईं
आहे आस जहिड़ी मन में, तूं ई पुॼाईं

1.
हिक त देहीअ खे न ॾुखडो ॾिजांइ को
इहो वसु दासीअ सां, पंहिरों कजाइं को
पंहिंजी हिमथ सां जॻ में हलाईं
आहे आस जहिड़ी मन में, तूं ई पुॼाईं

2.
अथमि आस ॿी अमृत वेले उथारिजि
घड़ी पलक पंहिंजे नाम में विहारिजि
इहो नेम सांईं सदा लाइ निभाहीं
आहे आस जहिड़ी मन में, तूं ई पुॼाईं

3.
टीं आस दाता कुटंब खे सुमत ॾे
नढ़नि छा वॾनि खे सांईं सुठी मति ॾे
महर जो भरे हथु सभिनी ते घुमाईं
आहे आस जहिड़ी मन में, तूं ई पुॼाईं

4.
चौथों चाह चित में रहे ध्यानु तुंहिंजो
सुखनि छा दुखनि में रहे ज्ञान तुंहिंजो
‘निमाणीअ’ जे सॾिड़नि ते मतां देर लाईं
आहे आस जहिड़ी मन में, तूं ई पुॼाईं