भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सागर पर शाम / बलदेव वंशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चमचम बृहद आईना
तोड़ दिया
पत्थर मार
तमतमाये गुस्सैल सूर्य ने
और स्वयं ही
कतरा-कतरा बिखरी किरचों पर
अपनी एड़ियाँ लहूलुहान कर
रोते-रोते सो गया !