भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

साथी रे भूल न जाना मेरा प्यार / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साथी रे भूल न जाना मेरा प्यार
मेरी वफ़ा का ऐ मेरे हमदम कर ले न ऐतबार
साथी रे ...

दूर कभी कर दे जो मजबूरी
वह दूरी तो होगी नज़र की दूरी
तेरी दुआयें गर साथ रहीं
आएगी फिर से बहार
साथी रे ...

काश कभी ये रैना न बीते
प्रीत का ये पैमाना कभी न रीते
डर है कहीं आने वाली सहर
ले ले न दिल का क़रार
साथी रे ...