भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सादगी पहचान जिसकी ख़ामुशी आवाज़ है / मयंक अवस्थी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सादगी पहचान जिसकी ख़ामुशी आवाज़ है
सोचिये उस आइने से क्यों कोई नाराज़ है

बेसबब सायों को अपने लम्बे क़द पे नाज़ है
ख़ाक में मिल जायेंगे ये शाम का आग़ाज़ है

यूँ हवा लहरों पे कुछ तह्रीर करती है मगर
झूम कर बहत है दरिया का यही अन्दाज़ है

देख कर शाहीं को पिंजरे में पतिंगा कुछ कहे
जानता वो भी है किसमे कुव्वते-परवाज़ है

क्यो मुगन्नी के लिये बैचैन है तू इस क़दर
ऐ दिले नादाँ कि तू तो इक शिकस्ता साज़ है

ये ज़ुबाँ और ये नज़र उस पर बराहना ख्वाहिशें
दाश्ताओं सी तेरी सीरत तेरा अन्दाज़ है