भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सामने गर हो किनारा तो बहुत कुछ शेष है / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सामने गर हो किनारा तो बहुत कुछ शेष है
हौसला ज़िंदा तुम्हारा तो बहुत कुछ शेष है

मुश्किलें देता है उनके हल भी देता है वही
नींद से जागे दुबारा तो बहुत कुछ शेष है

यह कहावत है पुरानी मन के जीते, जीत हो
आदमी का मन न हारा तो बहुत कुछ शेष है

मानता हूँ थक गये हैं तीरगी से आप पर
भेार का चमका सितारा तो बहुत कुछ शेष है

हर समय खाली कहाँ रहती हैं उसकी कश्तियाँ
गर है तिनके का सहारा तो बहुत कुछ शेष है

मुड़ के पीछे देखियेगा आप तन्हा हैं कहाँ
आपके दिल ने पुकारा तो बहुत कुछ शेष है