भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सारे गामा / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मेढक मामा, मेढक मामा,
क्यों करते हो जी हंगामा?
टर्र-टर्र की सुनकर तान,
फूट गए अपने तो कान!

छोड़ो भी यह गाल फुलाना,
दिन भर राग बेसुरा गाना,
बात हमारी मानो, मामा,
पहले सीखो सारेगामा!