भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सार / स्वरांगी साने

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

एक कदम में लाँघा
माँ का घर।

दूसरे में पहुँच गई ससुराल।

विराट होने की ज़रूरत ही नहीं रही
और उसने नाप ली दुनिया।