भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

सिक्का किसी फ़कीर के कासे में यूँ न डाल / सुमन ढींगरा दुग्गल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिक्का किसी फ़कीर के कासे में यूँ न डाल
कमज़र्फ कह के चीख उठे कासा ए सवाल
मरने से दास्तान तेरी मुख़्तसर न हो
तू मौत से हयात का पहलू कोई निकाल