भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिख मानो हमारि (होली मतवाला) / आर्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सिख मानो हमारि, रावण न मन बउराओ ।।
जग जननी कै हरण करि लायौ
परनारी पै कु‍दृष्टि लगायौ
बीस नयन, तुम कस अंधरायौ, कि सहजै न बंश नशाओ
करि भगवन से रारि, सहजै न बंश नशाओ ।।

‘आर्त’ बनो प्रभु माफ करेंगे
चरण गहो सब कष्‍ट हरेंगे
नाहि त सब बिन मौत मरेंगे, कि जग में न अयश कमाओ
प्रभु महिमा बिसारि, जग में न अयश कमाओ ।।

इस गीत को गाने की विधा ’यू ट्यूब’ पर चलचित्रों के माध्‍यम से देखी व सीखी जा सकती है । उत्‍सुक बन्‍धु ’यू ट्यूब’ पर जाकर इसके नाम से खोज करें ।