भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सितम ढा रहे हैं सवेरे-सवेरे / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सितम ढा रहे हैं सवेरे-सवेरे
कहाँ जा रहे हैं सवेरे-सवेरे

झुकाये हैं नज़रें, छुपायें हैं मुखड़ा
क्यों शरमा रहे हैं सवेरे-सवेरे

कि जैसे किसी ने पकड़ ली हो चोरी
वो घबरा रहे हैं सवेरे-सवेरे

निकलते नहीं थे जो पर्दे से बाहर
नज़र आ रहे हैं सवेरे-सवेरे

रूखे गुंचा ओ गुल पे शबनम के दाने
पिघल जा रहे हैं सवेरे-सवेरे

सवेरा हुआ प्यास फिर जग गयी है
वो तरसा रहे हैं सवेरे-सवेरे

कभी जो गये ही नहीं एक पल को
वही आ रहे हैं सवेरे-सवेरे