भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सिलसिला / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह एक सिलसिला है
शब्दों का
एक लम्बे बहस का
जो बरसों से जारी है
मगर खत्म नहीं होती
यह खाई
यह दूरी
किसने बनाई है ?
कौन पाटेगा इसे ?
यहाँ तो इनक्लाव में
उठी हर गर्दन को
बर्बरीक बना दिया जाता है।