भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सीख कर्म की / सपना मांगलिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुन्ना जब तू होगा सयाना
बैर कपट से दूर ही रहना
चाहे दुनिया तुझे कहे दीवाना
किसी की तू आस न करना
खुद पर बस विश्वास है रखना
सुन,मेहनत से कभी न घबराना
आत्मविश्वास सफलता का खज़ाना
सीख कर्म की जब समझ आएगी
दुनिया कदमों में झुक जायेगी