भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुन्दर पास पड़ोस बनाओ / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

देखो क्या कहतीं हैं कलियाँ,
हर दम हँसो और मुस्काओ।
रहो सदा तुम सबके प्यारे,
सुन्दर पास पड़ोस बनाओ।
देखो क्या कहतीं हैं नदियाँ,
हर दम आगे बढ़ते जाओ।
शीतल करो सदा सब ही को,
सुन्दर पास पड़ोस बनाओ।
देखो क्या कहते तरु पौधे,
तुम ऊपर को उठते जाओ।
हरा भरा मन रक्खो अपना,
सुन्दर पास पड़ोस बनाओ।
देखो क्या कहता है दीपक,
अन्धकार से मत घबराओ।
जब तक दम में दम बाकी हो,
सुन्दर पास पड़ोस बनाओ।