भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुबह तमाशा शाम तमाशा / राकेश तैनगुरिया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुबह तमाशा शाम तमाशा
ये जग आठों याम तमाशा

तुम जीवन को कुछ भी कह लो
सबका है अंजाम तमाशा

गीत कहाँ हैं अब वंशी में
गूँज रहा गुमनाम तमाशा

गरल पिया हँस हँस कर हमने
हो न जाय बदनाम तमाशा

हम सबके सब बाजीगर हैं
सिर्फ हमारा काम तमाशा

ऐ 'राकेश' चलो अब तुम भी
करके ये नीलाम तमाशा