भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुरताल / दिविक रमेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

समझ
थी भी कहाँ सुरताल की।
मैंने तो मिला लिया था
स्वरों में स्वर
यूँ ही।

यूँ ही
गाता रहा पगडंडियों से खेतों तक
खेतों से
खलिहानों तक।

बस गाता रहा
आकाश, धरती, सब कुछ
कहाँ मालूम था मुझे
संगीत
यूं बन जाता है आदमी।