भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

सुर ही के भार सूधे-सबद सु कीरन के / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रूप घनाक्षरी
(वसंतकालसूचक वस्तुओं के हेतु तर्क करने का वर्णन)

सुर ही के भार सूधे-सबद सु कीरन के, मंदिरन त्यागि करैं अनत कहूँ न गौंन ।
’द्विजदेव’ त्यौं हीं मधु-भारन अपारन सौं, नैंकु झुकि-झूमि रहे मौंगरे-मरुअदौंन ॥
खोलि इन नैननि निहारौं-तौं-निहारौं कहा, सुखमा अभूत छाइ रही प्रति भौंन-भौंन ।
चाँदनी के भारन दिखात उनयौ सौ चंद, गंध ही के भारन बहत मंद-मंद पौंन ॥४॥