भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुलगना अंदर अंदर मिस्रा-ए-तर सोचते रहना / 'फ़ज़ा' इब्न-ए-फ़ैज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुलगना अंदर अंदर मिस्रा-ए-तर सोचते रहना
बदन पर डाल ज़ख़्मों की चादर सोचते रहना

नहीं कम जाँ-गुसल ये मरहला भी ख़ुद-शनासी का
के अपने ही मआनी लफ़्ज़ बन कर सोचते रहना

ज़बाँ से कुछ न कहना बा-वजूद-ए-ताब-गोयाई
खुली आँखों से बस मंज़र ब मंज़र सोचते रहना

किसी लम्हे तो ख़ुद से ला-तअल्लुक़ भी रहा लोगो
मसाइल कम नहीं फिर ज़िंदगी भी सोचते रहना

चराग़-ए-ज़िंदगी है या बिसात-ए-आतिश-ए-रफ़्ता
जला कर रौशनी दहलीज़-ए-जाँ पर सोचते रहना

अजब शय है ‘फ़ज़ा’ ज़हन ओ नज़र की ये असीरी भी
मुसलसल देखते रहना बराबर सोचते रहना