भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुलहजूई ने गुनहगार मुझे ठहराया / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सुलहजूई ने गुनहगार मुझे ठहराया।

जुर्म साबित जो किया चाहो तो मुश्किल हो जाय़।।


नाख़ुदा को नहीं अब तक तहे-दरिया की ख़बर।

डूबकर देखे तो बेगानये-साहिल हो जाय़॥


एक ही सजदा क्या दूसरे का होश कुजा।

ऐसे सजदे का यह अंजाम कि बातिल हो जाय॥