भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सुसाइड / भारती पंडित

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


कल रात फिर एक सुसाइड नोट
न्यूज पेपर की हेडिंग बना गया
एक प्यारा होनहार बच्चा
अनचाही मौत मर गया |

हर कोई लगा रहा था अपने कयास
उससे ऐसे कदम की नहीं थी आस
वह था मासूम ,समझदार बड़ा
फिर कैसे मौत के द्वार हुआ जा खडा |

रुदन , विलाप , सवाल अनवरत
सत्य खुलता परत दर परत
पर हर सवाल का जवाब बस यही
असफलता का सामना कर सका नहीं |

दीवारें बोल सकती तो करा देती बयान
कि उसे दिया गया अपेक्षाओं का अनंत आसमान
उड़ न सका तो बेचारा डर गया
वह होनहार माता-पिता की अपेक्षाओं की बलि चढ़ गया |