भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

सृजन का आलाप / कौशल्या गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ, बैठो,
मिलकर सुनें –
इस गगन झरती नीलिमा का
नील वर्णी राग।

वर्ण-छवि से टूटती
और बिखर अपने में सिमटती
रश्मि की शाश्वत् प्रभाती,
सान्ध्य-वर्णी राग।

पल्लवों का विलग हो
झरना, सहमना;
झरन के समवेत स्वर में
करुण-वैभव राग।

बीज अँकुर का उमगना
गगन लख,
फिर ललित कोमल गात
किसलय का कुतूहल;
कोंपल, किसलय की छवि से
पर्व-फल की परिणति तक
पथ-क्रमण की सतत गति
पद-चाप स्वर
झरता चिरन्तन
सृजन का आलाप

देवघर की दीप-लौ
देवछाया से लहरती,
आरती के थाल की
नैवेद्य चक्रित तान।